Ticker

6/recent/ticker-posts

Advertisement

Responsive Advertisement

नेपाल रो रहा प्याज के आंसू, भारत के प्रतिबंध के बाद आसमान छू रहे दाम


पलिया कलां खीरी:भारत सरकार की ओर से निर्यात पर प्रतिबंध लगाए जाने के बाद पड़ोसी देश नेपाल में प्याज की कीमतें आसमान चढ़ गई हैं। कुछ दिन पहले तक 20-30 रुपए किलो बिकने वाले प्याज की खुदरा कीमत यहां 150 रुपए किलो तक पहुंच गई है। पलिया मंडी से जा रहे हैं प्याज को कस्टम गौरीफंटा द्वारा रास्ते से ही वापस कर दिया जा रहा है एसएसबी भी खुले बॉर्डर से प्याज ले जाने वाले लोगों को वापस भेज रही है।


कई जगहों पर व्यापारियों ने जमाखोरी और कालाबाजारी शुरू कर दी है। ऐसे में आने वाले दिनों में इसकी कीमत और अधिक बढ़ सकती है। भारत दक्षिण एशिया में प्याज का सबसे बड़ा उत्पादक है। नेपाल, बांग्लादेश, श्रीलंका और मलेशिया भारतीय प्याज पर निर्भर हैं। दुकानदार थोक बाजारों में इसे 50 रुपए किलो खरीद रहे हैं और खुदरा कीमत 120 से 150 रुपये किलो तक है। भारत की ओर से प्रतिबंध लगाए जाने के बाद हर दिन प्याज की कीमतों में तेजी आ रही है। पलिया में 40 से ₹50 के बीच बिकने वाला प्याज में तेजी आ रही है वहीं पड़ोसी देश नेपाल के धनगढ़ी शहर में नेपाली मुद्रा 120 से डेढ़ ₹100 प्रति किलो तक प्याज की कीमत पहुंच चुकी है प्याज के साथ-साथ लहसुन की कीमतों में भी भारी उछाल देखा जा रहा है।


भारत के वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय के तहत विदेश व्यापार के तहत सभी प्रकार के प्याज के निर्यात पर प्रतिबंध लगाने का नोटिस जारी किया था। भारत में कीमतें तेजी से बढ़ रही हैं क्योंकि दक्षिण भारत में भारी बारिश के कारण प्याज का उत्पादन घट गया है। कर्नाटक और आंध्र प्रदेश सहित दक्षिण भारतीय राज्यों में लगातार बारिश से प्याज के उत्पादन को नुकसान पहुंचा है।