Ticker

6/recent/ticker-posts

Advertisement

Responsive Advertisement

समाजवादी नेताओं पर बदले की भावना से हो रही कार्यवाहियों के खिलाफ रोष प्रकट करते हुए तत्काल उन पर नियंत्रण किए जाने की मांग


समाजवादी पार्टी के प्रतिनिधिमण्डल ने आज महामहिम राज्यपाल महोदया से मिलकर उनसे प्रदेश में बढ़ती अराजकता और समाजवादी नेताओं पर बदले की भावना से हो रही कार्यवाहियों के खिलाफ रोष प्रकट करते हुए तत्काल उन पर नियंत्रण किए जाने की मांग की है।


    समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के निर्देश पर समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल, सुनील सिंह ‘साजन‘, श्री आनन्द भदौरिया एवं उदयवीर सिंह विधान परिषद सदस्यगणों का प्रतिनिधिमण्डल आज महामहिम राज्यपाल जी से भेंट कर ज्ञापन सौंपा। 


    राज्यपाल जी को दिए गए ज्ञापन में कहा गया है कि उत्तर प्रदेश में भाजपा सरकार विपक्ष के प्रति और खासकर समाजवादी पार्टी के प्रति द्वेषपूर्ण व्यवहार कर रही है। संविधान की ली गई शपथ के प्रतिकूल उसका आचरण भेदभावपूर्ण होता है। इससे प्रदेश में कानून व्यवस्था की स्थिति दिन प्रतिदिन बिगड़ती जा रही है। सत्ता संरक्षित अपराधियों के कारनामों से जनता भयभीत है।


स्थिति यह है कि प्रदेश में निर्दोष सताए जा रहे हैं। फर्जी एनकाउण्टर और हिरासत में मौतें हो रही हैं। अपहरण, लूट, हत्या के मामले बढ़ते जा रहे हैं। सरकार इन पर नियंत्रण नहीं कर पा रही है। महिलाओं और बच्चियों के साथ तो आए दिन दुष्कर्म की घटनाएं हो रही है। फर्जी आंकड़ों से यह सरकार काम चला रही है।


    सर्वाधिक चिंता का विषय तो यह है कि सत्तादल के इशारे पर पुलिस का व्यवहार गैरजिम्मेदाराना और संवेदनहीन होता जा रहा है। लोकतंत्र में सत्ता और विपक्ष दोनों की संवैधानिक मान्यता है किन्तु उत्तर प्रदेश में भाजपा सरकार अपनी एकाधिकारवादी मानसिकता से काम कर रही है। शांतिपूर्ण अहिंसात्मक विरोध भी उसे बर्दाश्त नहीं है। बेरोजगारी से परेशानहाल नौजवान जब अपनी मांग उठाते हैं तो उन पर लाठियां बरसती हैं। यह कहां का न्याय है?


प्रतिनिधिमण्डल ने राज्यपाल महोदया को बताया कि विभिन्न जनपदों में समाजवादी पार्टी के नेताओं को बदले की भावना से उत्पीड़न का शिकार बनाया जा रहा है। आप अवगत हैं कि रामपुर के सांसद और पूर्वमंत्री मोहम्मद आजम खां और उनके परिवार पर तमाम फर्जी केस लगा दिए गए हैं। 


    जनपद प्रतापगढ़ की स्थिति तो और भी ज्यादा गम्भीर है। यहां भाजपा सरकार की गलत नीतियों का विरोध करने के कारण समाजवादी पार्टी के नेताओं पर सत्तादल के इशारे पर झूठे मामले गढ़े जा रहे हैं। ब्लाक प्रमुख पट्टी श्रीमती माधुरी यादव के पति श्री सभापति यादव को एनकाउण्टर किए जानें की धमकी दी जा रही है। उनका जीवन असुरक्षित है। पुलिस से ही उन्हें खतरा है। समाजवादी पार्टी के जिलाध्यक्ष श्री छविनाथ यादव की फर्जी मुकदमें में गिरफ्तारी के बाद उनके भाई का भी उत्पीड़न हो रहा है। कुण्डा नगर पंचायत की चेयरमैन श्रीमती सीमा यादव के पति और पूर्व चेयरमैन श्री गुलशन यादव को भी आए दिन पुलिस परेशान कर रही है।


    समाजवादी पार्टी के ज्ञापन में मांग की गई है कि भाजपा के विपक्ष के प्रति असहिष्णु रवैये से जनता में भय और आक्रोश है, राज्यपाल महोदया अपने संवैधानिक पद के दायित्व का निर्वहन करते हुए तत्काल भाजपा सरकार के असंवैधानिक कार्यवाहियों पर रोक लगाए। 


                                                                  


Post a Comment

0 Comments