Ticker

6/recent/ticker-posts

Advertisement

Responsive Advertisement

कुशीनगर : 11 साल की बच्‍ची के साथ दरिंदगी के बाद किया कत्ल, फिर गन्ने के खेत में......?


उत्‍तर प्रदेश के कुशीनगर से दिल दहला देने वाली एक घटना सामने आई है। यहां गुरवलिया बाजार इलाके में मिले 11 साल की एक बच्‍ची की लाश का पोस्टमॉर्टम होने के बाद जो हकीकत सामने आई वो शर्मसार करने वाली है। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में खुलासा हुआ कि बच्ची का गला काटकर कत्ल किया गया और उससे पहले उसके साथ रेप किया गया था। 


पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आने के बाद से पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया है। आरोपी की तलाश के लिए कई टीमें लगा दी गई हैं। खुद एसपी कुशीनगर पूरे मामले की मानीटरिंग कर रहे हैं। इस मामले में पहले दर्ज अपहरण और हत्‍या के मामले में रेप की धारा भी जोड़ दी गई है। गांव के ही 30 वर्षीय माइगर मद्धेशिया पर इस वारदात को अंजाम देने का आरोप है। वह अपने दो साल को लेकर रात से फरार है। पुलिस ने उसकी तलाश में शनिवार को घंटों गांव के बाहर के गन्‍ने खेतों में तलाशी अभियान चलाया लेकिन अभी तक वह हाथ नहीं लगा है। इस मामले में गांव के तीन लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है। 


ये है पूरा घटनाक्रम 


कुशीनगर के गुरवलिया बाजार के मठिया टोले की रहने वाली बच्‍ची शुक्रवार की सुबह अपने माता-पिता के साथ खेत में गंजी निकालने गयी थी। रात हो गई तो माता-पिता ने गंजी का बोरा साइकिल पर लाद कर बच्‍ची को घर ले चलने को कहा। बच्‍ची सड़क के रास्ते होकर निकली और माता-पिता खेत की मेंड़ पकड़ कर घर चले गए। रात आठ बजे तक बच्‍ची घर नहीं पहुंची तो परिजनों ने उसकी तलाश शुरू कर दी। बच्ची के गायब होने की सूचना पर स्थानीय पुलिस भी सक्रिय हो गई। रात करीब 10 बजे उसकी लाश गांव के बाहर एक खेत में मिली।


बच्‍ची का गला रेता गया था। शरीर पर घाव के निशान थे और शव अर्धनग्न हाल में था। एसपी विनोद कुमार सिंह और एएसपी अयोध्या प्रसाद सिंह ने रात में ही घटनास्थल का निरीक्षण किया। शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजे जाने के साथ ही पुलिस ने घटना की जांच शुरू करा दी। बच्ची के माता-पिता से बात करने के बाद बच्‍ची के खेत से घर आने के रास्ते का निरीक्षण किया गया। कई बार निरीक्षण और ग्रामीणों से पूछताछ के बाद सुबह पुलिस ने दो लोगों को उठा लिया। इन लोगों से पुलिस को उस आदमी का नाम पता चल गया, जिसने बच्ची को बीच रास्ते से उठा लिया था। वह काफी मनबढ़ है।


दिन में करीब 12 बजे पता चला कि वह गन्ने के खेत में घुसा था तो पुलिस ने तीन थानों की फोर्स बुला कर खेत को घेर लिया और सर्च ऑपरेशन शुरू कर दिया। दोपहर एक बजे तक आरोपी पुलिस के हाथ नहीं लग सका था। एसपी विनोद कुमार सिंह ने बताया कि बच्‍ची की लाश मिलने के बाद गुमशुदगी के केस को हत्या और अपहरण के केस में तब्दील कर दिया गया था। पोस्‍टमार्टम में रेप की पुष्टि होने के बाद एफआईआर में धारा बढ़ा दी गई है। मुख्य आरोपी की सरगर्मी से तलाश की जा रही है। उन्‍होंने दावा किया कि जल्द ही उसे गिरफ्तार कर लिया जाएगा।


ग्रामीणों ने किया हंगामा, शव की हालत देख भड़का गुस्सा 


रात में शव मिलने की सूचना पर गांव के लोग मौके पर जुट गए। रात करीब दस बजे हंगामा शुरू कर दिया। मौके पर पहुंची तुर्कपट्टी पुलिस से हालत नहीं संभली तो एएसपी अयोध्या प्रसाद सिंह को सीओे के साथ मौके पर आना पड़ा। उन्होंने रात में ही मामले की पड़ताल शुरू करा दी। खुद घटनास्थल से लेकर बालिका के आने के रास्ते का कई बार निरीक्षण किया। ग्रामीणों का गुस्सा शव की हालत देख कर भड़का था। शरीर पर कई जगह खून बहा था। रात में एसपी विनोद कुमार सिंह ने ग्रामीणों को आश्वस्त किया कि अपराधी हर हाल में पकड़े जाएंगे और पीड़ित परिवार को न्याय दिलाया जाएगा। 


फोरेंसिक टीम और डॉग स्क्वायड की निशानदेही पर पकड़े गए तीन संदिग्‍ध 


घटना को गम्भीरता से लेते हुए एसपी ने मौके पर ही जांच के लिए टीम गठित कर दी। फोरेंसिक व डॉग स्क्वॉयड की टीम बुलायी गयी। टीम की निशान देही पर पुलिस ने एक महिला सहित तीन लोगों को हिरासत में ले लिया है। पूछताछ की जा रही है। पुलिस सूत्रों के अनुसार हिरासत में लिए गए लोगों में आरोपी भी शामिल है। दूसरे की तलाश की जा रही है।


एएसपी के नेतृत्व में पांच थानों की फोर्स ने खंगाला गन्ने का खे


शनिवार को सुबह किसी ने आशंका व्यक्त की कि मुख्य आरोपित घटनास्थल के बगल में गन्ना के खेत में छिपा है। सूचना पर एएसपी एपी सिंह व एसडीएम एआर फारुकी मौके पर पहुंच गए। तुर्कपट्टी, कुबेरस्थान, विशुनपुरा, सेवरही, व तरयासुजान थाने की फोर्स ने दो बार गन्ने के खेत का चप्पा चप्पा छान मारा लेकिन आरोपित हाथ नहीं लगा। पुलिस अग्रिम कार्रवाई में जुटी है।


विधायक ने दी सांत्वना, आर्थिक मदद की


हत्या की खबर पर मौके पर पहुंचे क्षेत्रीय विधायक गंगा सिंह कुशवाहा ने पीड़ित परिजनों को सांत्वना दी। आर्थिक मदद भी की। उन्‍होंने एसएचओ जितेंद्र सिंह से कहा कि मामले का तत्काल खुलासा होना चाहिए। इस दौरान रामवृक्ष गिरी, राजेश तिवारी, डा. डीएन कुशवाहा, राजेश्वर सिंह, त्रिलोक नाथ मिश्र, जिला पंचायत सदस्य मनबोध कुशवाहा, पूर्व प्रधान हरिशंकर कुशवाहा आदि मौजूद रहे।