Ticker

6/recent/ticker-posts

Advertisement

Responsive Advertisement

बिना मास्क लगाये लोगों से रहें सावधान, हो सकते हैं कोरोना संक्रमित, कोविड-19 के घटते आंकड़ों से जनता हुयी लापरवाह 


बिना मास्क लगाये लोगों से रहें सावधान, हो सकते हैं कोरोना संक्रमित   


कोविड-19 के घटते आंकड़ों से जनता हुयी लापरवाह 


खुद के साथ पूरे समाज के लिए खतरा बन गए बिना मास्क भटकते लोग


03 दिसंबर 2020, प्रयागराज: कोविड-19 महामारी के घटते आंकड़े और वैक्सीन आने की सम्भावना से जनता दिनो-दिन लापरवाह होती जा रही है। कोरोना के प्रति जागरूकता व अहतियात की अनदेखी आपकी व आपके अपनों की जान को जोखिम में डालने के लिए काफी है। बिना मास्क के बाज़ारों में भटकते लोग संक्रमण को हल्के में लेकर खुद के साथ पूरे समाज को खतरे में डाल रहे हैं। इसके भयावह परिणाम के संकेत समय रहते समझना जरूरी है। नासमझी से बढ़ रही लापरवाही जनपद की जनता को संकट में डालने के लिए पर्याप्त है।   


  जिला प्रतिरक्षण अधिकारी ए.सी.एम.ओ. डॉ. अमित श्रीवास्तव ने कहा कि कोविड-19 महामारी को हल्के में बिल्कुल ना लें जब तक कि इस महामारी का कोई सफल टीका आप तक नहीं पहुँच जाता। वर्तमान समय में मास्क से बेहतर कोई उपयोगी वैक्सीन नहीं है। घर से किसी भी कार्य हेतु बाहर निकलें तो मास्क पहनें व सामाजिक दूरी के नियम का सख्ती से पालन करें। घर के बच्चों व बुजुर्गों को बहुत आवश्यक होने पर ही बाहर जाने दें। ध्यान रहे किसी भी परिस्थिति में बिना मास्क सार्वजनिक स्थल पर ना जाएँ व बिना मास्क के किसी भी व्यक्ति को घर में प्रवेश ना करने दें। पान-मसाले और तम्बाकू के सेवन व सेवन करने वालों से दूर रहें और सार्वजनिक स्थानों पर न थूकें। 


  यातायात नियमों में सख्ती के कारण चालान के डर से लोग दूसरों का हेलमेट भी इस्तेमाल कर रहे हैं। इसलिए ध्यान रखें की स्वयं के उपयोग में लाए जाने वाली कोई भी वस्तु जैसे की मास्क, हेलमेट, दस्ताने, रुमाल, शील्ड का उपयोग किसी और को ना करने दें, ना ही किसी अन्य व्यक्ति के संपर्क में आयी ऐसी किसी वस्तु का इस्तेमाल करें। ढाबा, होटल, रेस्टोरेंट जाने से परहेज करें। घर से बाहर निकलते समय घर का बना भोजन व पानी की बोतल अपने साथ ले जाएँ। हाथो को सेनीटाइज़ करते रहें। बाहर की कोई भी खाद्य सामग्री इस्तेमाल ना करें। अपनी जान व अपनों का ख्याल रखते हुए इस बात को समझें की वायरस का खतरा अभी टला नहीं है। इसलिए संक्रमण के आंकड़ों में कमी आने पर भी जनता बिल्कुल भी लापरवाही न बरते।