Ticker

6/recent/ticker-posts

Advertisement

Responsive Advertisement

नागरिकों की बेपरवाही के चलते आधे से ज्यादा शहर में कोरोना की दस्तक


जिला प्रशासन ने बार-बार चेताया। पुलिस सख्त रवैया अपनाती रही। पर, नागरिकों की बेपरवाही के चलते आधे से ज्यादा शहर में कोरोना की दस्तक हो गई है। महानगर के 70 में से 45 वार्डों में कोरोना संक्रमण के मामले आ चुके हैं। शहर में 65 स्थानों पर हॉट-स्पॉट बना हुआ है। नगर निगम सभी हॉट-स्पॉट में सोडियम हाइपोक्लोराइट के घोल का छिड़काव करा रहा है, लेकिन रोजाना मिल रहे कोरोना पॉजिटिव मरीज व्यवस्था को ङ्क्षचता में डाल रहे हैं। 20 जून के बाद शहर में कोरोना मरीजों की संख्या में इजाफा शुरू हुआ। इससे पहले ग्रामीण क्षेत्रों में ही मरीज मिल रहे थे। लेकिन, अब शहर में रोजाना मरीज मिल रहे हैं।


सस्ती दवा के चक्कर में आया कोरोना


थोक दवा मंडी भालोटिया मार्केट में कोरोना का प्रवेश सस्ती दवा के चक्कर में हुआ। दवा व्यापारी को लखनऊ से दवा मंगाने पर रेट समझ में नहीं आया तो वह किसी को बिना बताए दिल्ली चले गए। वहां से लौटे तो कोरोना उनके साथ आ गया। हद तो यह हो गई कि पिता के कोरोना पॉजिटिव होने के बाद भी बेटा अपनी मेडिकल एजेंसी बंद करने के लिए तैयार नहीं हो रहा था। इसी चक्कर में दुकान में काम करने वाले भी कोरोना की चपेट में आ गए।


किसी को मकान मालिक तो किसी को किराएदार से संक्रमण


शहर में किसी को उसके मकान मालिक से कोरोना मिल गया तो किसी को अपने किराएदार की वजह से संक्रमण झेलना पड़ रहा है।


पुलिस देख लगाते हैं मास्क


शहर में सड़क पर निकले आधे से ज्यादा लोग मास्क नहीं लगा रहे हैं। कई के गले में मास्क लटका रहता है। किसी चौराहे पर पुलिसकर्मी दिखते हैं तो यह लोग मास्क चेहरे पर लगा लेते हैं। जो लोग मास्क लगा रहे हैं, उनमें से ज्यादातर बात करते समय इसे हटा दे रहे हैं। यानी जब ज्यादा खतरा होता है तो मास्क का प्रयोग नहीं करते हैं।


लगातार कराया जा रहा छिड़काव


नगर निगम के नगर स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मुकेश रस्तोगी ने बताया कि शहर में वर्तमान में 65 हॉट-स्पॉट हो चुके हैं। इनमें नगर निगम की टीम सोडियम हाइपोक्लोराइट के घोल का छिड़काव करने के साथ ही सफाई भी करा रही है। अब तक 45 वार्डों में कोरोना पॉजिटिव मरीज मिल चुके हैं।