Ticker

6/recent/ticker-posts

Advertisement

Responsive Advertisement

ग्राम विकास अधिकारी व ग्राम प्रधान की मिलीभगत से खड़ंजे के निर्माण पर हो रहा पीली ईंटों का प्रयोग  


कैसरगंज( बहराइच)। विकासखंड कैसरगंज के अंतर्गत ग्रामसभा नत्थनपुर में पक्की सड़क (खडंजा) निर्माण कार्य विगत कई दिनों से चल रहा था, जो इस समय लगभग पूरा हो चुका है, जिसमें पूरा निर्माण कार्य पीली ईंटों से कराया गया है| खड़ंजा निर्माण कार्य कराए जाने के तुरंत बाद उस पर बालू मिट्टी डाल दिया जा रहा है जिससे कि पीली ईंटों का उजागर ना किया सके जो कि चित्र में स्पष्ट दिखाई पड़ रहा है। जिस पर मिट्टी नहीं पड़ी है वह पीली ईंट दिखाई दे रही है और अधिकतर ईंटों पर मिट्टी डाल दी गई है| किसी भी प्रकार के सरकारी निर्माण कार्य में पीली ईंटों का प्रयोग निषेध है|


सरकारी निर्माण कार्यों में अधिकतर ईंट (सीधा तामड़ा) व अव्वल का प्रयोग किया जाता है, परंतु उपरोक्त निर्माण कार्य में 40% मात्र ही फर्स्ट क्वालिटी की ईंटों का प्रयोग किया गया है| मिट्टी पर जाने के कारण बिना किसी उचित निरीक्षण किए बगैर शुद्धता या गुणवत्ता की जांच कर पाना बहुत मुश्किल है| जबकि भुगतान फर्स्ट क्वालिटी की ईंटों का किया जाना है| स्थानीय प्रशासन की घोर लापरवाही से इस प्रकार से ग्राम सभाओं में निर्माण कार्य कराए जाते हैं|स्थानीय लोग मूकदर्शक बने रहने के कारण निरंतर ग्राम सभाओं में इस प्रकार के निर्माण कार्य होते रहते हैं| ग्राम सभाओं में इस प्रकार से हो रहे निर्माण कार्यों की जांच के लिए कोई मजिस्ट्रेट रैंक का अधिकारी नहीं आता है।, जिससे कि उपरोक्त लोग इस प्रकार की घटनाओं को निरंतर अंजाम देकर धन उगाही किया करते हैं|