Ticker

6/recent/ticker-posts

Advertisement

Responsive Advertisement

मुंह पर मॉस्क और मन में श्रद्धा लेकर दर्शन को पहुंचे भक्त  


-कानपुर के सभी मंदिरों में मंगला आरती के बाद दर्शन को खोले गए पट


-लाखों की संख्या में पहुंचे भक्तों ने किया कोविड-19 के नियमों का पालन


-जंगली देवी मंदिर में भक्तों को सिर्फ दर्शन करने की अनुमति दी गई


ब्यूरो कार्यालय (कानपुर):शारदीय नवरात्रि के पहले दिन कानपुर शहर के मंदिरों में भक्तों ने मां भगवती के दर्शन कर अपने परिवार के सुख और समृद्धि की कामना की। शनिवार भोर पहर मंगला आरती के बाद देवी मंदिरों के पट भक्तों के दर्शन को खोल दिए गए। लाखों की संख्या में भक्त मां भगवती का जयकारा लगाते हुए दर्शन करने पहुंचे। इस दौरान मंदिरों की सुरक्षा व्यवस्था बेहद कड़ी रही। भक्तों ने भी कोरोना जैसी वैश्विक महामारी को मात देने के लिए चेहरे पर मॉस्क लगाए रखा।


शहर के करीब-करीब सभी मंदिरों में मॉस्क लगाकर पहुंचने की अनिवार्यता रही। साथ ही सेनिटाइजेशन के बाद ही भक्तों को मंदिर के अंदर प्रवेश दिया गया। बारादेवी मंदिर, वैष्णव माता मंदिर, पथराही देवी मंदिर, जंगली देवी मंदिर, कुष्मांडा देवी मंदिरों में माता के दर्शन को पहुंचे भक्तों ने सोशल डिस्टेसिंग का पूरा ख्याल रखा। जंगली देवी मंदिर में कोविड नियमों का पूरी तरह से पालन करते हुए भक्तों को सिर्फ दर्शन की ही अनुमति दी गई।


शास्त्री नगर स्थित काली मठिया मंदिर में बैरीकेडिंग लगाकर महिलाओं और पुरुषों की अलग लाइन लगाने के बाद ही सोशल डिस्टेसिंग को ध्यान में रखकर प्रवेश दिया गया। बिरहाना रोड स्थित तपेश्वरी देवी मंदिर में भी कोविड नियमों का पालन किया गया। इस दौरान मंदिरों की सुरक्षा व्यवस्था बेहद कड़ी रही। हर मंदिर पर लोकल पुलिस के साथ-साथ वॉलंटियर्स भी तैनात रहे।