Ticker

6/recent/ticker-posts

Advertisement

Responsive Advertisement

सीएमओ आफिस में एएनएम के प्रशिक्षण का आयोजन किया,परिवार नियोजन के साधनों के बारे में विस्तार से दी जानकारी

कासगंज । मुख्य चिकित्सा अधिकारी कार्यालय में एएनएम के प्रशिक्षण का आयोजन किया गया। इसमें 30 एएनएम ने हिस्सा लिया। उन्हें परिवार नियोजन के साधनों के बारे में विस्तार से बताया। इस दौरान लोगों से बच्चे में कम से कम तीन साल का अंतराल रखने का आह्वान किया।प्रशिक्षण में गंजडुंडवारा सीएचसी के मेडिकल आफिसर आमिर खान ने कहा कि बच्चे में अंतराल रखने के लिए सरकार ने बहुत सी योजनाओं को संचालित कर रखा है। उसका लाभ पाकर बच्चों में अंतराल रखा जा सकता है। उन्होंने बताया कि अंतरा, छाया, माला, आईसीयूडी सबसे उपयुक्त साधन हैं। बढ़ती जनसंख्या को रोकने के लिए बच्चों में अंतराल रखने के लिए एएनएम को ट्रेनिंग दी गई।मेडिकल ऑफिसर आमिर खान ने बताया कि जल्द गर्भधारण करने से मां और बच्चे दोनों को खतरा रहता है। उन्होंने बताया कि गर्भाधारण के लिए कम से कम तीन साल का अंतराल होना चाहिए।डा.उमा राजपूत ने परिवार नियोजन के साधनों के बारे में बताया। कहा कि अंतरा, छाया, माला, आईयूसीडी की सुविधा सीएचसी व पीएचसी पर उपलब्ध है।इस मौके पर यूपीटीएसयू स्पेशलिस्ट लखनऊ रेनुका बहादुर, फैमिली प्लानिंग स्पेशलिस्ट राज तोमर आदि मौजूद रहे।


अंतरा एक गर्भनिरोधक इंजेक्शन है, जिसकी पहली डोज डाक्टर की देखरेख मे महिला का स्वास्थ्य परीक्षण करने के बाद ही लगाई जाती है। उसके बाद दूसरी डोज प्रशिक्षित स्टॉफ नर्स या एएनएम के द्वारा लगायी जाती है। यह महिलाओं को तीन माह के अंतर पर मासिक धर्म आने के सात दिन के अंदर बिना किसी जांच के दिया जाता है ।


 छाया गोली यह एक साप्तहिक हार्मोनल गर्भनिरोधक गोली है। यह प्रसव या गर्भपात के तुरंत बाद प्रारम्भ की जा सकती है।


 आंवल के बाहर आने के 10 मिनट के भीतर ऑपरेशन के दौरान प्रसव के अगले 48 घंटों के अंदर प्रसव के छह हफ्तों बाद गर्भपात के तुरंत बाद अगर संक्रामक न हो तो माहवारी शुरू होने पर पहले दिन से 12दिन के भीतर कभी भी दे सकते है।