Ticker

6/recent/ticker-posts

Advertisement

Responsive Advertisement

प्रदेश अध्यक्ष ने पटेल एवं पूर्व तहसीलदार की प्रतिमा का अनावरण कर सभागार का उद्घाटन किया


रामसनेहीघाट, बाराबंकी:भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह द्वारा सोमवार को तहसील परिसर में नवस्थापित सरदार वल्लभभाई पटेल की प्रतिमा के अनावरण के साथ ही सुंदरीकृत पटेल सभागार का उद्घाटन तथा तहसील भवन के सामने नवनिर्मित स्व0 हरिशंकर सिंह पूर्व तहसीलदार स्मृति उपवन वाटिका का उद्घाटन एवं मूर्ति का अनावरण किया।


   इस अवसर पर आयोजित समारोह को संबोधित करते हुए प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि सरदार पटेल ने आजादी के बाद सबसे पहले देश की एकता और अखंडता को कायम रखने के लिए सभी रियासतों को एक करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई और अपने 3 वर्ष के कार्यकाल में उन्होंने इसे साकार दिखाया। श्री सिंह ने कहा कि बहुत कम लोग ऐसे होते हैं जो गांव एवं राष्ट्र की एकता के लिए जीते हैं, उन्हीं में से सरदार पटेल भी थे। उन्होंने कहा कि पटेल जी ने देश की सुख और समृद्धि के लिए अपना सम्पूर्ण जीवन समर्पित कर दिया। आज उन्हीं के पद चिन्हों पर चलते हुए चाय बेचने वाले प्रधानमंत्री के रूप में नरेंद्र मोदी ने उनकी 182 फुट की प्रतिमा स्थापित कर एक नया कीर्तिमान ही नहीं बना दिया बल्कि धारा 370 खत्म कर उन्हें सच्ची श्रद्धांजलि दी है।उन्होंने कहा कि भारतीय संस्कृति और सभ्यता के विकास के लिए प्रतिबद्ध प्रधानमंत्री के कुशल नेतृत्व का ही परिणाम है कि जब भी कोई विदेशी राजनेता इस धरती पर आता है तो सबसे पहले गंगा आरती और भोले नाथ का जलाभिषेक करता है।प्रदेश का जिक्र करते हुए श्री सिंह ने कहा कि प्रदेश के गुंडों की प्रॉपर्टी पर बुलडोजर चल रहा हैं, कांवड़ यात्रा पर पूर्व की सरकारों द्वारा रोक लगाई जाती थी लेकिन मुख्यमंत्री योगी जी उन पर हेलीकॉप्टर से फूल बरसा रहे हैं। 


    समारोह को संबोधित करते हुए अयोध्या सांसद लल्लू सिंह ने कहा कि आज का दिन बहुत ही सौभाग्यशाली है क्योंकि रामसनेहीघाट की पवित्र धरती पर प्रदेश अध्यक्ष का आगमन सरदार पटेल की मूर्ति के अनावरण अवसर पर हुआ। 


बाराबंकी सांसद उपेंद्र रावत ने कहा कि सरदार बल्लभ भाई पटेल ने 567 रियासतों को एक कर दिया था लेकिन हैदराबाद,जूनागढ़ व जम्मू-कश्मीर की रियासतें भारत में शामिल नहीं हुई थी। ऐसे में पटेल को हैदराबाद और जूनागढ़ की रियासत को भारत में मिलाने का जिम्मा सौंपा गया सरदार पटेल ने इन दोनों रियासतों को भारत में मिला दिया। उन्होंने सरदार पटेल के विचारों को आत्मसात करने का आह्वान किया क्योंकि उन्हीं के विचार इस देश को एकता के सूत्र में पिरो सकते हैं। 


क्षेत्रीय विधायक सतीश चंद शर्मा ने इस अवसर पर प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह का रामसनेहीघाट और दरियाबाद की धरती पर स्वागत करते हुये प्रदेश अध्यक्ष को आश्वस्त किया कि पार्टी का एक-एक कार्यकर्ता उनकी नीतियों को जन-जन तक पहुंचाने के लिए कटिबद्ध है।


समारोह को अवधेश श्रीवास्तव ने कहा कि एक-एक कार्यकर्ता पटेल जी की नीतियों को अपनाएगा क्योंकि उन्हीं के विचार इस देश को न केवल आगे बढ़ा सकते हैं बल्कि उनके सपने को भी साकार कर सकते हैं।


    तहसील परिसर में सरदार पटेल की प्रतिमा स्थापित कर इस कार्यक्रम को साकार रूप प्रदान करने वाले ज्वाइंट मजिस्ट्रेट दिव्यांशु पटेल ने अपने संबोधन में उपस्थित प्रदेश अध्यक्ष सहित सभी अतिथियों का स्वागत किया,साथ ही कहा कि सरदार पटेल जी एक ऐसी शख्सियत रहे हैं जिनके विचारों को आत्मसात करने से ही देश को विकास के रास्ते पर बढ़ाया जा सकता है।


इस मौके पर हैदरगढ़ के विधायक बैजनाथ रावत ने अंत में सभी अतिथियों के प्रति आभार व्यक्त किया। कार्यक्रम में अपर जिला अधिकारी संदीप गुप्ता, उप जिलाधिकारी हैदर गढ़,तहसीलदार तपन कुमार मिश्र सहित परमेंद्र विक्रम सिंह, जवाहर वर्मा,पवन सिंह रिंकू, पूर्व प्रमुख चंद्रशेखर वर्मा एवं पार्टी के तमाम पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता भी मौजूद रहे। इस मौके पर सरस्वती विद्या मंदिर की छात्राओं ने सरस्वती वंदना, स्वागत गीत, राष्ट्रगान एवं राष्ट्रीय गीत गाकर कार्यक्रम में चार चाँद लगा दिया।