Ticker

6/recent/ticker-posts

Advertisement

Responsive Advertisement

बहुचर्चित बिकरू कांड: शहीद सीओ समेत आठ पुलिसकर्मियों में से चार के आश्रितों को जल्द ही पुलिस महकमे में मिलेगी नौकरी 


कानपुर के बहुचर्चित बिकरू कांड में शहीद सीओ समेत आठ पुलिसकर्मियों में से चार के आश्रितों को जल्द ही पुलिस महकमे में नौकरी मिलेगी। आश्रित परिजनों के आवेदन करने के बाद अब दस्तावेजों का सत्यापन अंतिम चरण में हैं। दो आवेदकों ने अफसरों से स्वास्थ्य ठीक न होने पर अभी मोहलत मांगी है।


2/3 जुलाई 2020 की रात चौबेपुर के बिकरू गांव में हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे की धर-पकड़ को गई पुलिस टीम पर विकास और उसके गुर्गों ने ताबड़तोड़ गोलियां बरसाई थीं।


हमलें बिल्हौर के तत्कालीन सीओ देवेंद्र कुमार मिश्र, शिवराजपुर के तत्कालीन थाना प्रभारी महेश चंद्र, मंधना चौकी के तत्कालीन प्रभारी अनूप कुमार सिंह, दारोगा नेबूलाल और चार सिपाहियों राहुल, सुल्तान सिंह, बबलू कुमार व जितेंद्र शहीद हो गए थे। घटना के बाद सरकार ने शहीदों के आश्रितों को पुलिस विभाग में नौकरी और आर्थिक सहायता की घोषणा की थी। इसके बाद पीड़ित परिवारों से नौकरी के लिए आवेदन मांगे गए थे।


शहीद चार पुलिस कर्मियों की पत्नी व एक के भाई ने आवेदन किया है। एसपी ग्रामीण बृजेश कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि अब तक दारोगा अनूप सिंह की पत्नी नीतू, सिपाही राहुल की पत्नी दिव्या, सुल्तान की पत्नी उर्मिला और सिपाही बबलू के भाई उमेश ने ही आवेदन किया है। अनूप सिंह की पत्नी नीतू और राहुल की पत्नी दिव्या को दौड़ के लिए बुलाया गया, लेकिन उन्होंने स्वास्थ्य ठीक न होने का हवाला देकर वक्त मांग लिया है। सुल्तान की पत्नी उर्मिला और बबलू के भाई उमेश के दस्तावेजों का वैरीफिकेशन चल रहा है।