Ticker

6/recent/ticker-posts

Advertisement

Responsive Advertisement

विकास दुबे का करीबी ग्राम विकास अधिकारी सस्पेंड, बीडीओ पर भी लटक रही है कार्रवाई की तलवार



ब्यूरो कार्यालय (कानपुर):कानपुर के बहुचर्चित बिकरू कांड के मुख्य आरोपित विकास दुबे की "जी हुजूरी" करना शिवराजपुर के ग्राम विकास अधिकारी (वीडीओ) को महंगा पड़ गया। एसआईटी की रिपोर्ट के आधार पर डीडीओ ने गुरुवार उन्हें सस्पेंड कर दिया। उन्हें बिधनू ब्लॉक से संबद्ध कर दिया गया है। उल्लेखनीय है कि वीडीओ और विकास के बीच अच्छी जुगलबंदी थी। दोनों के बीच फोन पर बातचीत के साक्ष्य मिले थे। शिवराजपुर के बीडीओ पर भी कार्रवाई की तलवार लटक रही है। बीडीओ पर कार्रवाई का फैसला शासन करेगा।

सस्पेंड ग्राम विकास अधिकारी (वीडीओ) अमित कटियार के पास बिकरू समेत कई गांवों का कार्यभार था। एसआईटी ने जांच में पाया कि उनकी विकास से फोन पर खूब बातें होती थीं। शासन की योजनाओं में विकास दुबे की ही मनमानी चलती थी। पात्रों की जगह अपात्रों को लाभ मिलता था। विकास दुबे अपने हिसाब से पात्रता सूची तय करता था। आरोप है कि अमित वही करते थे जो विकास कहता था। दुबे ही गांव में आवास, पेंशन, शौचालय की सूची तय करता था। चयन में विकास के अपने मानक थे। उसके दरबार में हाजिरी लगाने वाले लोगों को ही सरकारी योजनाओं का लाभ मिलता था।

 बिकरू के कई लोगों ने एसआईटी के सामने बयान दर्ज कराया था। शासन ने सीडीओ को कार्रवाई के आदेश दिए थे। जिला विकास अधिकारी (बीडीओ) जीपी गौतम के मुताबिक एसआईटी ने माना कि विकास की अमित से लगातार बातचीत होती थी। विकास अमित को निर्देश देता था। मामले की जांच बीडीओ घाटमपुर एसएन सिंह को दी गई है।

एसआईटी जांच में शिवराजपुर के बीडीओ आलोक पांडेय भी फंस गए हैं। उनके खिलाफ कार्रवाई की संस्तुति की गई है। उन पर भी विकास से मोबाइल पर बातचीत करने और सरकारी योजनाओं का पर्यवेक्षण न करने का आरोप है। एसआईटी जांच में पता चला कि बिकरू की हर रिपोर्ट पर बीडीओ ने बगैर जांच कराए सहमति जता दी थी। ग्राम विकास अधिकारी जो भी रिपोर्ट देता रहा उसे आंख मूंदकर पास कर देते थे। कभी गांव का निरीक्षण नहीं किया गया। यह जानने की जहमत नहीं उठाई कि योजनाओं का लाभ पात्रों को मिल रहा है या फिर अपात्रों को ? 

इसके साथ ही विकास से करीबी संबंध रखने वाले शिवराजपुर ब्लॉक में तैनात रहे कई सेक्रेट्री और बीडीओ कार्रवाई की जद में हैं।