Ticker

6/recent/ticker-posts

Advertisement

Responsive Advertisement

महामारी के चलते डिजिटल प्‍लेटफार्म पर होगा'अवाम का सिनेमा' का आयोजन



अयोध्‍या। वैश्विक महामारी का रूप धारण कर चुके नोबेल कोरोनावायरस के संक्रमण को लेकर इस वर्ष आयोजित होने वाला 14वां फिल्म फेस्टिवल डिजिटल प्लेटफॉर्म पर आयोजित किया जाएगा।अयोध्‍या फ‍िल्‍म फेस्टिवल के बैनर तले 15 दिसंबर से 19 दिसंबर तक आयोजित 'अवाम का सिनेमा' में देसी विदेशी और डॉक्यूमेंट्री फिल्मों का मेला तो लगेगा लेकिन यह आभासी होगा। डिजिटल प्लेटफॉर्म पर लोग इसको फ्री देख पाएंगे।

 साझी संस्‍कृति के विरासत की नगरी अयोध्‍या में अशफाक - बिस्मिल जैसे क्रांतिवीरों को समर्पित यह आयोजन लगातार चौदह वर्ष से आयोजित हो रहा है। साझी विरासत को संजोए रखने के लिए महामारी के बीच भी इसका आयोजन होगा लेकिन संक्रमण के प्रकार का खतरा ना हो इसको लेकर इसे ऑनलाइन ही आयोजित किया जाएगा।

सोमवार को अयोध्या फिल्म फेस्टिवल के संस्थापक शाह आलम ने बताया कि कोरोना वायरस के खतरों की वजह से आयोजन को आनलाइन संचालित करने का निर्णय लिया गया। पूर्व के वर्षों की भांति इस वर्ष भी 15 दिसंबर से

फ‍िल्‍मों का मेला धर्म नगरी अयोध्‍या में लगेगा और देश विदेश के लोग जुडकर इस वैश्विक आयोजन का हिस्‍सा बनेंगे। उन्होंने बताया कि अयोध्या फिल्म फेस्टिवल के आयोजन के जरिए अयोध्‍या और अवध क्षेत्र में सिनेमा जगत को संभावनाओं का अवसर मिला है। इस आयोजन से फ‍िल्‍मी जगत की हस्तियां जुड़ती रही हैं। आयोजक शाह ने बताया कि महामारी के काल में आयोजित हो रहे हैं इस कार्यक्रम को देश विदेश के किसी कोने में बैठे लोगों के सीधे ड्राइंग रूम में पहुंचाने की है। दर्शकों के साथ जुड़ने का अवसर और लोगों को आमंत्रित करने का क्रम पूरा

होने के बाद अब फिल्मों के लिए आभासी स्क्रीनिंग का भी शहर के लोगों के लिए पहला मौका होगा।पांच दिवसीय कार्यक्रम में फिल्मों को यूट्यूब प्लेटफॉर्म पर ऑनलाइन स्ट्रीम किया जाएगा। दर्शकों को इससे जुड़ने के लिए खुद को रजिस्टर करना होगा और फिल्में देखने के लिए सदस्यता लेनी होगी।

14वां अयोध्या फिल्म फेस्टिवल के चेयरमैन प्रोफेसर मोहन दास ने कहा कि एक अंतहीन बदलते क्षितिज पर नए अनुभवों का सामना करते हुए एक सामूहिक भावना और ऊर्जा का एक सुंदर चलचित्र ही अयोध्‍या फ‍िल्‍म समारोह की सफलता रही है। फिल्मों,कलाकारों और निर्माताओं का यह जश्न प्रतिवर्ष की तरह विश्वास नहीं हो रहा है। आयोजन के दौरान फीचर फिल्मों, शॉर्ट फिल्मों के साथ-साथ डॉक्यूमेंट्री फ‍िल्‍में भी दिखाई जाएंगी। 

इन फ‍िल्‍मों का होगा प्रदर्शन

इस वर्ष के अयोध्या फिल्म फेस्टिवल में राम कमल मुखर्जी अभिनीत सेलिना जेटली और लिलेट दुबे की ओर से रितुपर्णो घोष को श्रद्धांजलि, पद्मव्यूह अभिनीत पूजा बत्रा, अल्बानिया से वाल्मिर टर्टिनी द्वारा सील, खुश्बू द्वारा मार्टिन जीसस कोजलोवस्की डेनमार्क से, कोलम जनजाति द्वारा जेनिफर अल्फोंस, मनरूपा (मन का प्रतिबिंब) किरण हेगड़े द्वारा, प्रिंस द्वारा मूर्ख सहित कई फ‍िल्‍मों का प्रदर्शन किया जाएगा।