Ticker

6/recent/ticker-posts

Advertisement

Responsive Advertisement

तीन दिन पहले चोरी हुई अष्टधातु की मूर्ति बरामद, दो गिरफ्तार, पीड़ित का नाती हीं निकला मूर्ति चोरी का मास्टर माइंड




श्रावस्ती। भिनगा कोतवाली क्षेत्र अन्तर्गत तीन दिन पूर्व एकघरवा कुट्टी गांव निवासी प्रद्युम्ननाथ तिवारी के घर से दिन दहाड़े चोरी गए अष्टधातु की मूर्ति का पुलिस ने खुलासा कर दिया है। पुलिस के खुलासे में पीड़ित प्रदुम्न नाथ तिवारी का नाती हीं मास्टर माइंड निकला है। जानकारी के अनुसार प्रदुम्न नाथ तिवारी के घर के सामने एक मंदिर था। जो कुछ महीने पूर्व गिर गया था। जिससे मंदिर में रखी सभी मुर्तियों को प्रदुम्न नाथ तिवारी ने अपने घर के अन्दर रख ली थी। प्रदुम्न नाथ तिवारी के घर में रखी मूर्तियां तेरह दिसम्बर को रहस्यमय ढंग से दिन दहाड़े चोरी हो गई थी। जिसकी सूचना प्रदुम्न नाथ तिवारी ने थाना कोतवाली भिनगा को लिखित रूप से दी थी। मूर्ति चोरी की सूचना मिलते हीं पुलिस अधीक्षक अरविन्द कुमार मौर्य ने क्राइम ब्रांच व भिनगा पुलिस की संयुक्त टीम बनाकर घटना का तत्काल खुलासा करने का निर्देश दिया था। पुलिस अधीक्षक के निर्देश पर क्राइम ब्रांच एवं भिनगा पुलिस घटना के खुलासे के लिए लगातार प्रयासरत थी। इसी बीच संयुक्त टीम ने पटना खरगौरा के पास से दो अभियुक्तों अंकित कुमार तिवारी पुत्र अनिल कुमार तिवारी निवासी एकघरवा थाना कोतवाली भिनगा जनपद श्रावस्ती तथा आशुतोष प्रताप मिश्रा पुत्र शंकर दयाल मिश्रा निवासी नऊवागढ़ी थाना कोतवाली देहात जनपद बहराइच को गिरफ्तार कर उनके पास से चोरी गई अष्टधातु की मूर्ति बरामद कर लिया है। बरामद मूर्ति की कीमत अन्तर्राष्ट्रीय बाजार में लगभग दस करोड़ रुपए बताई जा रही है। मूर्ति बरामदगी के बाद पुलिस अधीक्षक अरविन्द कुमार मौर्य ने प्रेस वार्ता करते हुए बताया कि गिरफ्तार दो अभियुक्तों में से एक अभियुक्त अंकित कुमार तिवारी वादी प्रदुम्न नाथ तिवारी का पारिवारिक नाती है। गिरफ्तार दोनों अभियुक्तों को पुलिस ने जेल रवाना कर दिया है। वहीं मूर्ति बरामद करने वाली टीम को पुलिस अधीक्षक द्वारा पच्चीस हजार रुपए का नगद पुरस्कार दिया गया है।