Ticker

6/recent/ticker-posts

Advertisement

Responsive Advertisement

विकास दुबे की बहू अंजलि का भी शस्त्र लाइसेंस निरस्त, तीन और लोगों के भी शस्त्र लाइसेंस डीएम ने निरस्त किए


ब्यूरो कार्यालय (कानपुर):एनकाउंटर में मारे जा चुके गैंगस्टर विकास दुबे की बहू अंजलि दुबे समेत चार और लोगों के शस्त्र लाइसेंस डीएम आलोक तिवारी ने रद कर दिए हैं। इससे पहले विकास दुबे के 24 करीबियों के लाइसेंस निरस्त किए जा चुके हैं। उधर, विकास दुबे के असलहा लाइसेंस की गायब फाइल मामले में अब सीबीसीआइडी जांच कराने की तैयारी है। मंगलवार को जिन चार लोगों के लाइसेंस निरस्त किए गए हैं, उनमें अंजलि के साथ ही बाबू सिंह, अखिलेश कुमार व रामचंद्र भी शामिल हैं।


2/3 जुलाई 2020 की मध्यरात्रि बिकरू गांव में दबिश देने गए सीओ बिल्हौर समेत आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के बाद मुठभेड़ में विकास दुबे और उसके पांच गुर्गों को एसटीएफ ने एनकाउंटर में मारे गिराया था। 


 विकास दुबे और उसके सहयोगियों के असलहा लाइसेंस की जांच हुई। पुलिस ने लाइसेंस रद करने की रिपोर्ट प्रशासन को भेजी। एक के बाद एक असलहा लाइसेंस सुनवाई में रद किए गए। अब तक जिन लोगों के लाइसेंस रद किए गए हैं, उनमें जिला पंचायत सदस्य अरविंद उर्फ गुड्डन त्रिवेदी के दो, रीता दुबे, सतेंद्र कुमार, अखिलेश कुमार, रविप्रकाश, जय वाजपेयी, नीरज, छोटे बउवा आदि शामिल हैं।


विकास दुबे के 28 सहयोगियों के पास 29 लाइसेंस थे। सभी लाइसेंस निरस्त किए जा चुके हैं। इनमें से एक दर्जन ऐसे लाइसेंस थे, जो झूठे शपथ पत्र और गलत तथ्यों के आधार पर बने थे। विकास दुबे और उनके सहयोगियों ने अपने आपराधिक इतिहास को छिपा लिया था। ये बात एसआइटी की जांच में भी सामने आ चुकी है। पुलिस ने उनके खिलाफ मुकदमा भी दर्ज कर लिया है। विकास दुबे के असलहा लाइसेंस की एक फाइल गायब है। उस मामले की जांच सीबीसीआइडी से जल्द ही कराने की तैयारी है।