Ticker

6/recent/ticker-posts

Advertisement

Responsive Advertisement

शक्तिपीठ देवीपाटन मंदिर में भगवान परशुराम की मूर्ति स्थापित करने के लिए डॉ भानू त्रिपाठी ने एडीएम को सौंपा ज्ञापन


बलरामपुर। जिले में भगवान परशुराम की मूर्ति लगाने के लिए लगातार सियासत का दौर जारी है। जिले के तुलसीपुर में स्थापित शक्तिपीठ देवीपाटन जो कि सीएम योगी आदित्यनाथ का गृह क्षेत्र माना जाता है और सीएम योगी स्वयं उस शक्तिपीठ के संरक्षक हैं। समाजवादी पार्टी उसी मन्दिर में भगवान परशुराम की मूर्ति स्थापित कराने के लिए एड़ी चोटी का जोर लगा रही है। इस पहले भी सपा नेता व जिला पंचायत सदस्य डॉ भानू त्रिपाठी ने शक्तिपीठ के महंथ मिथलेश नाथ योगी से मिलकर मूर्ति स्थापना के लिये अनुमति मांगी थी जिसपर महंथ ने विचार के बाद अनुमति देने की बात कही थी। हालांकि महीनों बीतने के बाद भी जब अनुमति नही मिली तो अब सपा नेता डॉ भानू त्रिपाठी ने सीएम योगी को सम्बोधित ज्ञापन अपर जिलाधिकारी अरुण कुमार शुक्ला को सौंप कर शक्तिपीठ में भगवान विष्णु के आवेशावतार परशुराम की मूर्ति लगाने की अनुमति मांगी है। हालांकि बीजेपी के ग़ढ़ में सपा नेता द्वारा मूर्ति स्थापना की मांग को लेकर कई सियासी मायने भी निकाले जा रहे हैं।


सपा नेता डॉ भानू त्रिपाठी ने बताया कि भगवान परशुराम हमारे विप्र ही नही सर्व समाज के आराध्य है। भगवान परशुराम की मूर्ति शक्तिपीठ देवीपाटन मंदिर के प्रांगण में लगाने के लिए मंदिर के महंत से मुलाकात हुई थी उन्होंने जमीन देने के लिए आश्वस्त भी किया था लेकिन महीनों बीत जाने के बाद भी अभी जमीन उपलब्ध नहीं हुई है। जिसमे संबंध में मुख्यमंत्री के नाम संबोधित ज्ञापन अपर जिलाधिकारी को दिया है, उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री के दौरे को लेकर कयास लागये जा रहे है अगर मुख्यमंत्री का जनपद में आगमन होता है तो उनसे मिलकर अपने समाज की बात रखकर भगवान परशुराम की मूर्ति लगाने के लिए जमीन की मांग करेंगे। इस दौरान नीरज शुक्ला, देवेश पाण्डेय, अनिल दुबे, राधेश्याम, राजू आदि उपस्थित रहे।