Ticker

6/recent/ticker-posts

Advertisement

Responsive Advertisement

पुर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से पार्टी कार्यालय, लखनऊ में भेंट करने वालों का लगा रहा तांता



समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से आज पार्टी कार्यालय, लखनऊ में भेंट करने वालों का तांता लगा रहा। सैकड़ों की संख्या में पार्टी कार्यकर्ताओं और नेताओं के अलावा बड़ी संख्या में नौजवान, बुजुर्ग, महिलाएं और व्यापारी, अधिवक्ता भी उनसे मिले।

   आज आंध्र प्रदेश से आए जाम्मू रतिसियाह के साथ अरूण कुमार ने अखिलेश यादव से भेंट की और काजू की माला, तिरूपति बाला जी की शाल तथा अंगवस्त्र ओढ़ाकर उनका अभिनंदन किया। आंध्र के इन नेताओं ने कहा कि अखिलेश यादव के प्रति आंध्र के लोगों में भी आकर्षण है और उनका भव्य स्वागत करने के लिए वे सब उत्सुक हैं। उन्होंने अखिलेश जी को आंध्र प्रदेश आने का निमंत्रण दिया।

   विंध्य विकास परिषद, मिर्जापुर के सदस्य राज्याधिकारी पुरोहित राज मिश्र ने अखिलेश जी को मां विध्ंयवासिनी का प्रसाद तथा आशीर्वाद प्रदान करते हुए कहा कि प्रदेश में सन् 2022 में वही मुख्यमंत्री बनेंगे। जनता में उनकी अच्छी छवि है और लोगों को यह भी विश्वास है कि उनकी सरकार बनने पर ही प्रदेश का विकास होगा और शांति व्यवस्था कायम हो सकेगी।

   सदर प्रतापगढ़ पूर्व विधायक नागेन्द्र सिंह यादव ने बताया कि जनपद प्रतापगढ़ के ग्राम सभा गोडो गांव तहसील सदर के निवासी सुधाकर सिंह तथा सूबेदार श्याम लाल यादव दोनों अरूणाचल प्रदेश में चीनी सीमा पर शहीद हुए थे। सुधाकर सिंह की पोस्टिंग के दौरान हृदयगति रूकने से मौत हुई थी। श्याम लाल यादव भी बार्डर पर तैनाती के समय शहीद हुए। दोनों का दाह संस्कार भी एक ही दिन 07 जनवरी 2021 को हुआ था।

  नागेन्द्र सिंह ने कहा कि राज्य सरकार ने जहां सुधाकर सिंह के परिवार को 50 लाख रूपए और एक सरकारी नौकरी दी वहीं श्याम लाल यादव के परिवार को कोई मदद नहीं मिली हैं। शहीद के आश्रितों को भी राज्य सरकार से मदद मिलनी चाहिए। 

   अखिलेश यादव से मिलने वालों का कहना था कि भाजपा सरकार के राज में अपराध बढ़े है, लोगों के जान माल को हमेशा खतरा रहता है। बहन-बेटियों को अपमानित किया जा रहा है। भाजपा सरकार का ‘बेटी बचाओं, बेटी पढ़ाओं‘ अभियान निरर्थक साबित हुआ है। व्यापारियों का कहना था कि जीएसटी के नित नए बदलते प्राविधानों से वे सब परेशान हैं। नोटबंदी और लाक डाउन से व्यापार पहले ही चौपट है अब सरकारी घोषणाओं के बावजूद बैंकों से भी उन्हें राहत नहीं मिल रही है। सभी लोगों का कहना था कि भाजपा ने अपनी एक भी योजना लागू नहीं की है। वह समाजवादी पार्टी के कामों को ही अपना बता रही है। इस सच्चाई को जनता जानती है। वह झूठ और नफरत फैलाने वाली भाजपाई राजनीति को सफल नहीं होने देगी।