Ticker

6/recent/ticker-posts

Advertisement

Responsive Advertisement

पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने आज सैफई मैदान में हजारों किसानों और नौजवानों की उपस्थिति में ट्रैक्टर ट्राली के मंच से ध्वजारोहण करते हुए सभी को गणतंत्र दिवस की दी बधाई




समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने आज सैफई मैदान में हजारों किसानों और नौजवानों की उपस्थिति में ट्रैक्टर ट्राली के मंच से ध्वजारोहण करते हुए सभी को गणतंत्र दिवस की बधाई दी।

इस अवसर पर राज्यसभा सांसद एवं समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय प्रमुख महासचिव प्रोफेसर रामगोपाल यादव, पूर्व सांसद धर्मेन्द्र यादव एवं तेज प्रताप सिंह यादव तथा एमएलसीगण आनन्द भदौरिया, सुनील सिंह साजन मौजूद थे।

   अखिलेश यादव ने अपने सम्बोधन में कहा कि हमारे सामने बड़ी लड़ाई है। गणतंत्र दिवस पर संविधान और देश के लोकतंत्र को बचाने का संकल्प लेना है। भाजपा सिर्फ झूठ और नफरत की राजनीति करती है। नागरिकों को संविधान प्रदत्त अधिकार छीनने की साजिशें हो रही हैं। पूरे देश के किसान जाग गए हैं। समाजवादी भी खेती किसानी से जुड़े हैं। देश को फौज पर गर्व है। अनेकता में एकता की अवधारणा ही राष्ट्रीय एकता की ताकत है। संविधान से देश चलना चाहिए।

    सांसद एवं प्रोफेसर रामगोपाल यादव ने कहा कि सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक न्याय संविधान की आत्मा है। सत्ता पर आर्थिक ताकतों ने कब्जा कर रखा है। सत्ता दल देश की सम्पत्तियाँ बेच रहा है। नए कृषि कानून से किसान का बेटा अपनी जमीन पर मजदूरी करने को मजबूर होगा। भाजपाई व्यापारी है, लूट रहे है, अड़ानी ने बड़े-बड़े गोदाम बना लिए। भाजपाइयों से बचिए। उन्होंने कहा सन् 2022 में अखिलेश जी जिसे चुनाव लड़ाएं उसे जरूर जिताना है। 

     अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा की मनमानी से किसानों के हित में निर्णय नहीं हुए हैं। राष्ट्र की सम्पत्ति पर कुछ लोगों का एकाधिकार करानेे की साजिश है। उन्होंने किसानों के शांतिमय आंदोलन पर बधाई देते हुए कहा कि उन्हें बदनाम किया जा रहा है। समाजवादी पार्टी किसानों के समर्थन में है। अगर अन्नदाता आंतकवादी खालिस्तानी है तो उसका उपजाया अन्न भाजपाई क्यों खा रहे हैं? धान की लूट हो गई। किसान को लागत मूल्य भी नहीं मिला। वैश्विक महामारी के मुकाबले में भाजपा ने सबका नाक-मुंह बंद करा दिया है।

    अखिलेश यादव ने कहा कि देश का किसान सड़कों पर अन्याय के खिलाफ उतरा है। सरकार उनका दमन कर रही है। समाजवादी पार्टी संविधान और कानून को मानती है जबकि भाजपा नहीं मानती है। समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं को जेल भेजा जा रहा है उन्हें अपमानित किया जा रहा है। किसान आंदोलन को रोकना भाजपा का दुष्चक्र है। आबादी के हिसाब से सभी समाजों को हक व सम्मान मिले, समाजवादी पार्टी इसके लिए जनगणना की पक्षधर है।

    अखिलेश यादव ने कहा कि उत्तर प्रदेश शिक्षा ओर रोजगार के मामलों में बहुत पीछे है। मुख्यमंत्री जी नौकरी का झूठा आंकड़ा दे रहे है। 14-15 करोड़ को कहां रोजगार मिला है? निवेश में भी धोखा है। कोई निवेश नहीं आया। डिफेंस एक्सपो में प्रचार पर अरबो रूपए खर्च हुए उनके झूठे प्रचार की पोल खुल गई है। सबसे बड़ा 36 हजार करोड़ का एमओयू जिस कम्पनी ने किया था वह निरस्त हो गया है। भाजपा ढोंग करती है और जातिवाद फैलाती है। समाज में नफरत का ज़हर घोलती है। भाजपा का अपना काम बताने के लिए कुछ नहीं है, जो भी काम हुए हैं सब समाजवादी पार्टी की सरकार में हुए हैं।

     अखिलेश यादव ने कहा कि आगरा-लखनऊ, एक्सप्रेस-वे के किनारे पर मंडिया बननी थी, नहीं बन रही हैं। सड़क उतनी ही है जितनी समाजवादी पार्टी की सरकार के समय बनी थी। समाजवादी पार्टी ने जो लैपटाप बांटे, वही चल रहे हैं। 100 नम्बर यूपी डायल को 112 बना दिया गया है। पुलिस को इनोवा गाड़ी समाजवादी सरकार ने दी, भाजपा ने तो वेतन कटौती की है।

     उन्होंने कहा कि देश की पहचान गंगा-जमुनी संस्कृति है। भाजपा इसे खत्म करना चाहती है। भाजपा डराकर राजनीति करती है। सड़क से प्रगति को रफ्तार मिलती है। समाजवादी पार्टी की सरकार में चार गुना मुआवजा दिया गया था। आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे पर वायुसेना के युद्धक विमान उतरे थे। पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे चार साल में नहीं बन पायी जबकि 21 महीने में आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे बनायी गई थी।

    अखिलेश यादव ने देश की मजबूती और खुशहाली के लिए सभी से समाजवादी पार्टी का साथ देने और सन् 2022 में समाजवादी पार्टी की सरकार बनाने और भाजपा को हटाने का संकल्प लेने को कहा। उन्होंने कहा भाजपा से सावधान रहना है क्योंकि यह चमत्कारी और चालाक पार्टी है।