Ticker

6/recent/ticker-posts

Advertisement

Responsive Advertisement

महफूज और सऊद की गिरफ्तारी के लिए पुलिस टीमों का गठन,चकेरी इंस्पेक्टर की अगुवाई में दो टीमें गठित


गिरफ्तारी के लिए ताबड़तोड़ दबिशों का दौर जारी


ब्यूरो कार्यालय (कानपुर):बीएसपी नेता पिन्टू सेंगर मर्डर केस में नामजद आरोपी महफूज अख्तर और उसके भाई सऊद अख्तर की गिरफ्तारी के लिए पुलिस की टीमें गठित की गई हैं। चकेरी इंस्पेक्टर की अगुवाई में पुलिस की दो टीमें ताबड़तोड़ दबिशें दे रही हैं लेकिन आरोपितों का अब तक कोई सुराग नहीं मिला है।


20 जून 2020 को पिंटू सेंगर की चकेरी के तिवारीपुर में गोलियां मारकर हत्या कर दी गई थी। पिंटू के भाई ने महफूज अख्तर, उसके भाई सऊद, कारोबारी मनोज गुप्ता, पप्पू स्मार्ट और दो वकीलों को नामजद करते हुए मुकदमा दर्ज कराया था। पुलिस ने शार्प शूटरों समेत 14 आरोपितों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। इसमें मनोज गुप्ता, उसका साथी वीरेंद्र पाल, पप्पू स्मार्ट भी थे। इस बीच थाना पुलिस ने बड़े अफसरों के दबाव में महफूज का नाम केस से हटा दिया। यही नहीं मनोज, वीरेंद्र पाल को क्लीनचिट देते हुए सभी को जेल से रिहा कराने का प्रयास किया। पुलिस के इन करतूतों की शिकायत पीड़ित परिवार ने एडीजी से की। एडीजी ने मामले को गंभीरता से लेते हुए जांच एसएसपी/डीआइजी को सौंप दी। फजीहत होने पर मंगलवार को पुलिस ने महफूज का नाम चार्जशीट में दोबारा शामिल कर लिया। महफूज और उसके भाई सऊद की गिरफ्तारी के लिए अफसरों ने चकेरी इंस्पेक्टर की अगुवाई में पुलिस की दो टीमें बनाई हैं। एसपी पूर्वी राजकुमार अग्रवाल ने बताया कि आरोपितों को जल्द गिरफ्तार कर लिया जाएगा। इसके बाद गैंगस्टर एक्ट में भी कार्रवाई की जाएगी।


उल्लेखनीय है कि चकेरी पुलिस ने महफूज और सऊद की कॉल डिटेल आने का इंतजार तक नहीं किया। चार गवाहों के बयानों पर महफूज का नाम केस से निकाल दिया। पिंटू सेंगर के स्वजन पुलिस की इस कार्रवाई पर सवाल उठा रहे थे। बताते हैं कॉल डिटेल में महफूज की गिरफ्तार किए गए शूटरों से लंबी बातचीत है। इसी तरह सऊद की भी शूटरों से बातचीत हुई थी। यह कॉल डिटेल पुलिस ने कोर्ट में भी दाखिल की है।