Ticker

6/recent/ticker-posts

Advertisement

Responsive Advertisement

पूर्व कैबिनेट मंत्री (सपा) अभिषेक मिश्रा ने किसानों की समस्याओं, बेरोजगारी ,भ्र्ष्टाचार व कानून व्यवस्था पर भी गम्भीर सवाल उठाये व भाजपा सरकार को कोसा 


 


इटावा । पूर्व केबिनेट मंत्री व सपा नेता अभिषेक मिश्रा ने कचहरी परिसर में शिक्षक और स्नातक चुनाव मतदान के लिये अपने प्रत्याशी के समर्थन में जनसंपर्क करने के साथ ही सिविल लाइन स्थित जिला सपा कार्यालय पर आयोजित एक प्रेस वार्ता में प्रदेश सरकार के कामकाज व विकास की नीतियों सहित किसानों की समस्याओं, बेरोजगारी ,भ्र्ष्टाचार व कानून व्यवस्था पर भी गम्भीर सवाल उठाये व सरकार को जमकर कोसा। हाल ही में सरकार द्वारा लव जिहाद पर लाये जा रहे कानून पर उन्होंने कहा कि, जिन्हें लव का ही मतलब नही पता है वो इस पर अब कानून बनाने की बात कर रहे है।


उन्होंने प्रदेश की बिगड़ी कानून व्यवस्था पर कई सवाल खड़े किये। प्रदेश में महिलाओं और लड़कियों के साथ हो रही अत्याचार की घटनाओं पर सरकार को कटघरे में खड़ा करते हुए कहा कि, प्रदेश की कानून व्यवस्था अब ध्वस्त हो चुकी है। उन्होने बुलन्दशहर, पहाड़पुरा व सीतापुर की घटना का जिक्र किया । वहीं कोरोना पर बोलते हुए कहा कि, कोरोना के नाम पर देश मे अब तक का सबसे बड़ा घोटाला हुआ है और जब प्रदेश में सपा सरकार बनेगी तो कोरोना काल मे हुए सभी घोटालों की कड़ी जांच भी की जाएगी । इस सरकार में किसान बेहद परेशान है सरकार बेरोजगारी, शिक्षा, पानी, स्वास्थ्य, भ्रस्टाचार के मुद्दे पर कोई बात नही कर रही। बेटियां और महिलाये असुरक्षित है, 2022 में यूपी का जनता अपना निजाम बदलने का काम करेगी, एनसीबी के मुताबिक यूपी में क्राइम के सारे रिकॉर्ड टूट गये है जनता त्रस्त है इसलिये अब यूपी में भविष्य में परिवर्तन अवश्य होगा । 


प्रेस वार्ता में पूर्व सांसद प्रेमदास कठेरिया, जिलाध्यक्ष गोपाल यादव, डॉ आशीष दीक्षित व अन्य कई सपा कार्यकर्ता भी मौजूद रहे । वहीं कलेक्ट्रेट में अभिषेक मिश्रा ने सपा के एमएलसी प्रत्याशी असीम यादव के लिए वोट मांगे वही डीबीए के महामंत्री साकेत शुक्ला, सपा अधिवक्ता संघ के जिलाध्यक्ष अश्वनी सिंह, एडवोकेट नदीम अहमद, एडवोकेट मनोज शाक्य, अनिल वर्मा, देवेंद्र पाल सिंह, प्रभाकर त्रिपाठी, सौरभ दीक्षित, अवनीश दीक्षित, अभय सिंह चौहान, मोहित दुबे आदि अधिवक्ताओं ने अभिषेक मिश्रा का हार मालाएं पहनाकर स्वागत सम्मान किया।