Ticker

6/recent/ticker-posts

Advertisement

Responsive Advertisement

अटका आगरा मेट्रो का काम भूमिगत लाइनों का जाल बना काम में रोड़ा



आगरा मेट्रो का काम आगरा में शुरू होते ही निर्माण कार्य में कई तरह की रुकावटें सामने आ रही हैं। अभी मेट्रो का शिलान्यास हुए, एक हफ्ता ही बीता है.और काम में रुकावट के लिए समस्याओं का पहाड़ टूट रहा है.जिले के सारे बड़े अधिकारी आपस में सामंजस्य बिठाकर इस समस्या का हल निकालने में लगे हुए हैं.जिसमें 30 किलोमीटर कॉरिडोर के नीचे बिछा भूमिगत लाइनों का होना काम में रुकावट उत्पन्न कर रहा है। मुख्य रूप से गैस ,पानी, इंटरनेट ,टेलिविजन सीवर, बिजली कई तरह की मुख्य पाइपलाइन है.30 किलोमीटर लंबे दोनों कॉरिडोर के नीचे कुल 14 विभागों की 524 भूमिगत लाइन व केबल का जाल बिछा हुआ है। उत्तर प्रदेश मेट्रो रेल कारपोरेशन को 18 विभागों से सूची मिली है। इनमें 14 विभागों की 207 लाइनें डायवर्ट होंगी अगर बात करें तो इसमें 


सबसे ज्यादा पाइपलाइन पानी की है।

अगर इसमें से कुछ भी बाधित होता है, तो शहर भर के लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ सकता है.वही मेट्रो अधिकारियों ने बताया कि जब जिस सेक्शन में काम शुरू होगा वहां संबंधित विभाग को पहले ही सूचित कर दिया जाएगा उसके बाद संबंधित विभाग इन लाइनों को खुद हटाएगा जबकि कुछ लाइनों को बदलने का काम यूपीएमआरसी करेगी जिला प्रशासन के लिए यूपीएमआरसी के साथ तालमेल और तकनीकी रूप से शहर वासियों को भी कोई दिक्कत ना हो इसका बड़ा ख्याल रखना पड़ेगा.