Ticker

6/recent/ticker-posts

Advertisement

Responsive Advertisement

इस जनपद की महिलाएं बनीं मिसाल, इनके जज्बे को सलाम करते हैं लोग..........



अमांपुर। कहते हैं ठान लो तो नामुमकिन कुछ भी नहीं, चाहे लक्ष्य कितना ही कठिन क्यों न हो, कुछ ऐसा उदाहरण है अमांपुर की ये महिलाएं। मेहनत और इरादे में ईमानदारी हर मुश्किल में नया जज्बा पैदा करती है। अमांपुर कस्बे के खेरा निवासी शीला देवी उम्र 50 वर्ष निवासी खेरा के जज्बे को आज लोग सलाम कर रहे हैं। पति का सहारा न मिला तो। घर की मर्यादा तोड़ कर दहलीज से कदम बाहर निकाल दिया। अमांपुर से 5 किलोमीटर दूर साइकिल से दूध बेचने जाती हैं। खेरा गांव से प्रतिदिन परिवार के गुजारे के लिए 25 वर्षों से से दूध बेचकर अपना और परिवार का भरण-पोषण कर रही हैं। शुरुआत उन्होंने 5 पशुओं से की इन पशुओं का पूरा काम वह खुद ही संभालती है। उनके चारे-दाने से लेकर दूध निकालने और फ़िर दूध बेचने का काम शीला देवी खुद ही करती है। वहीं कस्बे के सुभाष नगर निवासी विद्या देवी उम्र 60 वर्ष को समाजसेवा के भाव ने अन्य महिलाओं के लिए मिसाल बना दिया। लाॅकडाउन में ग़रीब लोगों की आगे आकर मदद की। लोगों को राशन वितरण किया। जरूरतमंद बच्चों को आगे बढ़ाने के लिए कई काम कर रही है। 

लोगों को मास्क की उपयोगिता समझाई

मोहल्ले वाले मास्क लगाने को तैयार नहीं थे। ऐसे में उन्होंने महिलाओं को साथ लेकर घर-घर गए और मास्क का महत्व बताया, मास्क बनाना भी सिखाया। उन्होंने अपनी अलग पहचान बनाई है। उनका उद्देश्य ही महिला सशक्तीकरण है।