Ticker

6/recent/ticker-posts

Advertisement

Responsive Advertisement

एसएसपी ने फरियादियों की सुनी समस्या त्वरित कार्रवाई करने का दिया निर्देश



एसएसपी ने फरियादियों की सुनी समस्या त्वरित कार्रवाई करने का दिया निर्देश

डीआइजी व एसएसपी से फरियादी ने लगाई गुहार

एसएसपी ने एसपी नार्थ को कड़ी कार्यवाई का दिया निर्देश

हिस्ट्रीशीटर पर वोट न देने पर धमकी व रंगदारी मांगने का लगाया आरोप


गोरखपुर। तेजतर्रार साफ-सुथरी छवि के नवागत वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक दिनेश कुमार पी आज अपने ऑफिस में आए हुए फरियादियों की समस्याओं को सुना त्वरित न्यायोचित कार्रवाई करते हुए संबंधित अधिकारियों को तत्काल कार्यवाही करने का दिया निर्देश ताकि पंचायती चुनाव को सकुशल कराया जा सके संपन्न। चौरीचौरा के शत्रुघ्नपुर निवासी रजनीश मणि ने हिस्ट्रीशीटर अशोक चौहान पर वोट देने का दबाव बनाने, चुनाव खर्च के लिए 75 हजार रुपये की रंगदारी मांगने व अपहरण का प्रयास करने का आरोप लगाया है। डीआईजी डॉ प्रीतिंदर सिंह ने कार्यवाई का निर्देश देकर शिकायतकर्ता को एसएसपी के पास भेज दिया। जिसके बाद एसएसपी दिनेश कुमार पी ने एसपी नार्थ मनोज अवस्थी को मामले को फोन पर अवगत कराया तथा शिकायती पत्र को व्हाट्सएप के जरिये उनके पास भेजा। एसएसपी ने निर्देश दिया कि ऐसे अपराधी प्रवृति के लोगो, हिस्ट्रीशीटरों के मुक़दमो की जांच की जाय। मामला सही हो तो केस दर्ज कर उसे गिरफ्तार किया जाय। साथ ही यह भी कहा कि अगर वादी की गलती मीले तो उसपर भी कार्यवाई हो

दरअसल रजनीश मणि मंगलवार को डीआईजी के पास पहुचे। शिकायती पत्र में उन्होंने लिखा कि अशोक चौहान हिस्ट्रीशीटर है। जिसकी हिस्ट्रीशीट संख्या 14 a है। उसपर चौरीचौरा कैन्ट देवरिया सहित अन्य थानों में हत्या के प्रयास बल्बा उपद्रव गुंडा अधिनियम गैंगेस्टर के आरोप में 30 केस दर्ज है। उनका बेटा पंचायत चुनाव की तैयारी कर रहा है। आरोप है कि होली की रात 11 बजे अशोक अपने साथ 12 लोगो को लेकर चारपहिया वाहन से घर आये। कहा कि सुना है तुम बेटे को वोट नही दोगे। इसके बाद धमकी देते हुए हिस्ट्रीशीटर ने चुनाव के खर्च के रूप में 75 हजार की रंगदारी मांगी। आरोप है कि बाद में उक्त लोग उन्हें जबरन गाड़ी में बैठकर ले जाने लगे। किसी तरह कुछ लोगो ने गाड़ी घेरकर उन्हें मुक्त कराया। आरोप है कि जिसके बाद हिस्ट्रीशीटर हवाई फायरिंग करते हुए भाग गया। जिसपर डीआइजी ने जांच कर कड़ी करवाई का निर्देश देते हुए फरियादी को एसएसपी के पास तत्काल भेजा। एसएसपी ने फरियाद सुनी व एसपी नार्थ को फोनकर पूरे मामले की जांच कर हिस्ट्रीशीटर पर केस दर्ज करने व गिरफ्तार करने का निर्देश दिया ताकि पंचायत चुनाव में खलल न हो। वही कहा कि अगर वादी की भूमिका भी गलत मीले तो उसपर भी कार्यवाई हो।