Ticker

6/recent/ticker-posts

Advertisement

Responsive Advertisement

नवनियुक्त एसडीएम प्रियंका कुमारी गोयल गोविंद सिंह शिक्षण संस्थान के छात्र छात्राओं को बताए सफलता के मंत्र, बोली डर के आगे जीत है

 


नवनियुक्त एसडीएम प्रियंका कुमारी गोयल गोविंद सिंह शिक्षण संस्थान के छात्र छात्राओं को बताए सफलता के मंत्र, बोली डर के आगे जीत है।


एसडीएम प्रियंका कुमारी गोयल ने गोविंद सिंह शिक्षण संस्थान के छात्र छात्राओं को दिया सफलता का मंत्र, बढ़ा आत्मविश्वास।


नवनियुक्त एसडीएम प्रियंका कुमारी गोयल ने छात्र छात्राओं को भविष्य में सफलता की सीढ़ियां चढ़ने के बारे मे बताया।


बेहतर जिदंगी जीने के लिए अभी से तैयारी करने पर जोर दिया।


कासगंज। कस्बे के गोविंद सिंह शिक्षण संस्थान में पीसीएस की परीक्षा में 5 वीं रैंक प्राप्त जनपद का नाम रोशन करने वाली अमांपुर की बेटी नवनियुक्त एसडीएम प्रियंका कुमारी गोयल के सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। प्रबंधक विनय प्रताप सोलंकी ने उन्हें फूल माला पहनाकर व स्मृति चिन्ह भेंट कर जोरदार अभिनंदन किया। कस्बे में प्रियंका कुमारी गोयल को बधाई-शुभकामनाएं देने का सिलसिला जारी है। इस मौके पर प्रियंका कुमारी गोयल शिक्षक की भूमिका में नजर आई। उन्होंने छात्र छात्राओं को सफलता के मूल मंत्र देते हुए कहा कि मेहनत और एकाग्रता ही सफलता का मूल मंत्र है। आगे बढ़ते रहो सफलता खुद मिल जाएगी। लक्ष्य निर्धारित कर जीवन में आगे बढ़ने की सलाह दी। विद्यार्थियों को करीब आधे घंटे की कक्षा ली। इस दौरान एसडीएम ने विद्यार्थियों को सफलता का मंत्र दिया और उनसे प्रश्न भी किए। इस कार्यक्रम के लिए विधालय परिवार का आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि जीवन में सफलता वे विद्यार्थी हासिल करता है जो अनुशासन, जागरुकता, ईमानदारी, आत्मविश्वास, सकरात्मक सोच रखता हो। इन सब के साथ सहयोग का भाव रहना भी आवश्यक है। 

प्रकृति से भी करें प्यार

उन्होंने छात्र छात्राओं से कहा कि जो हम प्रकृति को देते है प्रकृति हमको वहीं लौटाती है। इसलिए प्रकृति से प्यार करें। अधिक से अधिक पौधारोपण करें, ताकि आपके आस पास हरियाली हो। उन्होंने विद्यार्थियों से पूछा भविष्य में क्या बनना है तो प्रश्नों के उत्तर में छात्र छात्राओं का जवाब आया कि हम भविष्य में डॉक्टर, पुलिस और इंजीनियर बनना चाहते हैं। इस अवसर पर शशिप्रभा सोलंकी, विनय प्रताप सोलंकी, सुनीता सोलंकी, प्रधानाचार्य निहारिका शर्मा, आकाश गुप्ता सर्राफ, पीयुष गोयल, कन्हैया गोयल, पंवन प्रताप, बाबू जी, शनिदेव गुप्ता, मीनू श्रीवास्तव आदि मौजूद रहे।