Ticker

6/recent/ticker-posts

Advertisement

Responsive Advertisement

तस्करी के 19 गोवंशिय पशुओ से लदा ट्रक खडडा क्षेत्र में मिला ,आखिर चालक की क्यों मदद करने लगी पुलिस ???



कुशीनगर के खडडा से बाबा की रिपोर्ट ।।

गोवंश से लदा ट्रक खडडा सिसवा पर खराब होकर खड़ा हुआ तो तस्करी की चर्चा शुरू हो गयी ,जब कार्यवाई करने खडडा पुलिस पहुची और जो जानकारी मिली उसके बाद पुलिस वाले खुद ट्रक की खराबी सही कराने और चालक के मदद में जुट गये ।आगे पढिए ऐसा क्यों हुआ ।गुरूवार की शाम UP 128T0151 नम्बर की ट्रक खडडा सिसवा मार्ग पर बंजारी पट्टी गाव के पास खड़ा था ,ट्रक खराब हो गया था ,इसी बीच लोगो को पता चला की ट्रक में गोवंशिय पशु लदे हैं तो गो तस्करी की बात क्षेत्र में जंगल की आग की तरह फैल गयी,लोगों को इस बात की हैरानी हो रही थ ी की इन पशुओं को ले जाने वाले ट्रक के साथ पुलिस का सिपाही भी है। लोग अपने अपने हिसाब से चर्चा करने लगे कुछ लोग कोठीभार के चिरैयाकोट पशु बाजार ले जाकर बेचने की बात करने लगे ।इसकी सूचना मिली तो खडडा थाने के वरिष्ठ उपनीरिक्षक पीके सिंह ,सिपाहियों के साथ पहुँच गये और छानबीन शुरू किया तो जो हकीकत सामने आयी इसके बाद पुलिस वाले ट्रक को सही कराने व इसे आगे भेजने में जुट गये तो लोगों को और आश्चर्य होने लगा पुलिस के विरुद्ध भी चर्चा होने लगी ।

आइए बताते हैं कि असली मामला क्या था।



हुआ यू की कुशीनगर जनपद की तरयासुजान थाने की बहादुरपुर चौकी की पुलिस ने बध के लिए विहार ले जाए जा रहे 19पशुओ को बरामद किया था। इनके रहने खाने की परेशानी देख इन बरामद पशुओं को खडडा क्षेत्र के कोपजंगल पशु आश्रय केन्द्र में रखने हेतु निर्णय लिया गया ,इसके बाद इसी ट्रक पर लोडकर कोपजंगल ले जाया जा रहा था ,उस चौकी का एक सिपाही भी साथ में था। चालक को मठिया के पास से कोपजंगल जाना था परंतु भूलवश खडडा सिसवा मार्ग पर चला आया था अचानक डीजल समाप्त होने से ट्रक खराब होकर खड़ा हो गया था।खडडा पुलिस को जब हकीकत का पता चला और तरयासुजान पुलिस ने मदद करने का आग्रह किया तो खडडा पुलिस ट्रक की खराबी सही कराकर ट्रक को कोपजंगल पशु आश्रय केन्द्र भेजने में जुट गयी। लोगों को भी हकीकत जानकारी हुइ तो शांत हो गये। 

खडडा एस ओ रामकृष्ण यादव क्या बोले !! 

एस ओ ने बताया की तरयासुजान पुलिस द्वारा बरामद पशुओं को कोपजंगल ले जाते समय ट्रक खराब हो गयी थी। लोग इसे तस्करी समझ लिए ।पशुओ को कोपजंगल पशु केन्द्र भेजा जा रहा है।