Ticker

6/recent/ticker-posts

Advertisement

Responsive Advertisement

दीपावली बाद ग्राम प्रधान इलेक्शन की तैयारियां इस तरह तेज करेगी भाजपा


उपचुनाव(Upchunaw) की सफलता के बाद प्रदेश भाजपा(Bjp) ने अपना ध्यान पंचायत(Panchayat) चुनावों पर केंद्रित कर दिया है। गांवों की सरकार(Gorment) में मजबूत पैठ के लिए पार्टी ने कई स्तर पर तैयारियां पूरी भी कर ली हैं। दीपावली(Diwali) के बाद पंचायत(Panchayat) चुनावों को लेकर तमाम रणनीति(Radhniti) पार्टी स्तर से बनाई जाएगी। यह पहला मौका होगा, जब भाजपा(Bjp) वृहद स्तर पर पंचायत चुनाव में कूदेगी।राज्य(Rajey) में पंचायत(Panchayat) चुनाव पार्टी सिंबल पर नहीं होते हैं। इस चुनावों में राजनीतिक दल समर्थित प्रत्याशियों के माध्यम से अपनी उपस्थिति दर्ज कराते आ रहे हैं। पिछले पंचायत चुनाव में भाजपा ने जिला पंचायत सदस्य के चुनाव में पार्टी समर्थित प्रत्याशियों को मैदान में उतारा था। इस बार एक उम्मीद यह है कि शायद प्रदेश सरकार पंचायत चुनाव पार्टी सिंबल पर कराने के लिए कोई पालिसी बना दे।


पालिसी नहीं बनने पर भी भाजपा समर्थित प्रत्याशियों के माध्यम से चुनाव मैदान में नजर आएगी। यहां बता दें कि अभी तक सिर्फ केरला और पश्चिम बंगाल में ही पंचायत चुनावों में राजनीतिक दल अपने सिंबल पर चुनाव लड़ते हैं। पंचायत चुनावों के लिए प्रांतीय प्रभारी बनाए गए हैंपंचायत चुनावों के माध्यम से गांवों तक मजबूत पैठ बनाने की मुहिम में भाजपा पहले से ही लगी है। इस चुनाव की तैयारी के लिए पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष विजय बहादुर पाठक को प्रभारी बनाया जा चुका है। इस चुनाव के लिए ब्लाक स्तर तक पार्टी की बैठकें भी हो चुकी हैं। दीपावली बाद विधानसभा से लेकर पंचायत स्तर तक बैठकें शुरू करने की रणनीति बनेगी। प्रभारी विजय बहादुर पाठक ने बताया है कि 12 नवंबर तक मतदाता सूची में नाम जोड़ने का समय था। पार्टी की नजर इस चुनाव को लेकर होने वाले परिसीमन पर है। कोशिश यह होगी कि अधिक से अधिक कार्यकर्ता इस चुनाव में उतरें। पार्टी का उद्देश्य सभी चुनाव में अपनी मजबूत उपस्थिति दर्ज कराने की है। दीपावली बाद तैयारियां तेज की जाएंगी।