Ticker

6/recent/ticker-posts

Advertisement

Responsive Advertisement

मां ने किशोरी को बालिका वधू बनाकर बेंचा, थाने पहुंचकर किशोरी ने सुनाई पीड़ा तो....?



गुलरिहां थाना क्षेत्र के एक गांव में नाबालिग को उसकी मां व सौतेले बाप ने एक अधेड़ के हाथों शादी करने के बहाने बेच दिया। राजस्थान में पीड़िता के साथ जब अमानवीय व्यवहार किया जाने लगा तो वहां से किसी प्रकार से अपने मायके में भाग आई। यहां उसने ससुराल जाने से मना कर दिया तो उसके मां-बाप से उसे तीन दिन पूर्व कमरे में बंद कर दिया। किसी तरह से वह वहां से निकल कर बाहर आई और पुलिस से मदद की गुहार लगाई है।पीडि़त किशोरी भटहट पुलिस चौकी पहुंची और बताया कि करमहां बुजुर्ग निवासी वकील की पहली पत्नी उसे कुछ वर्ष पूर्व छोड़कर चली गई। धर्मशाला बाजार में एक मिठाई की दुकान पर रहने वाली महिला जो पहले से ही 4 बच्चों की मां थी। उससे रिश्‍ते मधुर हुए तो दोनों ने शादी कर ली। वह उस महिला की दूसरे नंबर की बेटी है और उसकी आयु 16 वर्ष की है। उसने आरोप लगाया है कि उसकी मां और उसके सौतले बाप ने चार माह पूर्व उसकी शादी राजस्थान के लाडपुर निवासी 45 वर्षीय विक्रम से कर दी। वह अपने ससुराल पहुंची तो दूसरे दिन से ही उसकी ड्युटी खेत में बाजरा काटने के लिए लगा दी गई। घर में भी नौकरों की तरह काम लिया जाता। शाम को देह व्‍यापार के लिए उसे दूसरे घरों में भेजा जाने लगा। प्रताड़ना से तंग आकर उसने मायके जाने की गुहार लगाई, लेकिन ससुरालियों ने जाने नहीं दिया। ससुरालियों ने उसे धमकी दी कि वह उसे यूं ही खरीदकर नहीं लाए हैं। यहां तक कि परेशान होकर वह छत से कूद गई। उसने ससुराल के लोगों को जान देने की धमकी दी तो किसी तरह उन्‍होंने उसे मायके आने दिया। यहां उसकी मां और सौतेला पिता उसे वापस ससुराल भेजना चाहते हैं। उसने बताया कि मां-बाप से अपनी पीड़ा बताकर उसने जाने से इनकार किया तो उन्‍होंने उसे तीन दिन पहले एक कमरे में बंद कर दिया गया। इस बीच खिड़की के रास्ते भागकर किसी तरह वह भटहट पुलिस चौकी पहुंची और पुलिस से अपनी पूरी व्‍यथा बताई। चौकी इंचार्ज वीरेंद्र बहादुर सिंह ने शाम को किशोरी के मां-बाप को बुलाकर उसे चेतावनी देकर छोड़ दिया है। किशोरी के मां-बाप ने उन्‍हें आश्‍वस्‍त किया है कि वह उसे राजस्‍थान नहीं भेजेंगे। गुलरियां थाना क्षेत्र के करमहां बुजुर्ग सहित आस-पास के गांवों में किशोरियों को शादी के नाम पर बेचने वाले गिरोह सक्रिय हैं। ग्रामीणों का कहना है कि यह गिरोह गरीब परिवारों को ही अपना शिकार बनाते हैं । राजस्थान, हरियाणा, पंजाब से आए लोग यहां मंदिर व अन्‍य स्‍थानों पर किशोरियों के देखाई की रस्‍म पूरा करते हैं और फिर उसी अनुसार उसकी कीमत लगाकर परिजन को पूरा खर्च देते हैं। यहां तक की लड़कियों के पूरे परिवार को कपड़ा आदि भी देकर विदा करा कर ले जाते हैं। फिर वह लड़कियों को देह व्यापार आदि के दलदल में धकेल देते हैं। कई बार ऐसे लोग पुलिस के भी हत्थे चढ़ते हैं, लेकिन अपनी ऊंची पहुंच व रसूख के चलते छूट जाते हैं। 

रवि राय, प्रभारी निरीक्षक गुलरिहां ने बताया 

मामला संज्ञान में नहीं था। कभी-कभी बच्चे मां-बाप पर गलत आरोप भी लगा देते हैं। फिर भी इसकी जांच की जाएगी।