Ticker

6/recent/ticker-posts

Advertisement

Responsive Advertisement

कल्याणी नदी में ज्यादा पानी छोड़े जाने से हजारों बीघा फसल जलमग्न




फतेहपुर, बाराबंकी। शारदा सहायक नहर से कल्याणी नदी में अधिक मात्रा में पानी छोड़े जाने से निन्दूरा क्षेत्र के दर्जनो गांवो की हजारों बीघा फसल जलमग्न हो गयी है। पीड़ित किसानों की शिकायत पर क्षेत्रीय विधायक व एसडीएम ने मौका मुआयना कर सिंचाई विभाग के अधिकारियों को कडी फटकार लगायी है। 

मालुम हो कि निंदूरा क्षेत्र में शारदा नहर से कल्याणी नदी में छोड़ा जा रहा पानी किसानों के लिए मुसीबत का शबब बना हुआ है। सूखी पडी कल्याणी नदी जो कि वर्तमान मे नाले के स्वरुप मे परिवर्तित हो गयी है इसी नदी मे सिंचाई विभाग के अधिकारियो ने शारदा नहर मे पानी अधिक होने पर अधिक मात्रा मे पानी छोड दिया जिससे जिससे दर्जनभर से अधिक गांवों की सैकड़ो बीघे गेहूं व सरसों की फसल जलभराव से बर्बाद हो गयी। गुरुवार को विधायक साकेंद्र प्रताप वर्मा व एसडीएम पंकज सिंह ने प्रभावित क्षेत्रों का दौरा करते हुए खेतों की दशा देख विधायक ने बाढ़ खंड व सिंचाई विभाग के अधिशासी अभियंता को जमकर फटकार लगाई। इस दौरान पीडि़त किसानों ने भी अपनी व्यथा सुना कर दोषी अधिकारियों के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की मांग की। गौरतलब हो कि निन्दूरा ब्लाक क्षेत्र के शारदा सहायक नहर में बीते दिनो नहर में पानी अधिक होने पर स्केप खोल कर पानी कल्याणी नदी में छोड़ दिया गया। जिससे निगोहा, सेमरी, सरैया, नदीपनाह, सैदापुर, नहन्नीपुर, भंडार, देवरा, हाजीपुर, इनैतापुर, बिबियापुर, पहाड़ापुर जैसे नदी के किनारे स्थित कई गांव की हजारों बीघे गेहूं व सरसों की फसल पानी भरने से नष्ट हो रही है। किसान मोल्हे, ओमकार, गुडडु, सजीवन आदि ने विधायक व एसडीएम को बताया कि तमाम शिकायतों के बावजूद कल्याणी का रास्ता खोले बिना मनमाने ढंग से पानी छोड़ा जा रहा है। जिससे हम लोग बरबाद हो रहे हैं। अधिकारी किसानों के बीच शासन की छवि धूमिल करने पर आमादा है। किसानों ने बताया कि सिंचाई विभाग द्वारा अवैध वसूली कर खोले गए पानी में मछली पालन कराया जा रहा है।