Ticker

6/recent/ticker-posts

Advertisement

Responsive Advertisement

कुशीनगर :पुलिस और स्वाट की संयुक्त टीम ने एनएच-28 पर सुबोधिया खुर्द के पास से 1.27 कुंतल चरस किया बरामद, चार तस्कर गिरफ्तार



जनपद कुशीनगर में शुक्रवार की देर रात चेकिंग के दौरान अहिरौली बाजार थाने की पुलिस और स्वाट की संयुक्त टीम ने एनएच-28 पर सुबोधिया खुर्द के पास से 1.27 कुंतल चरस बरामद में सफलता पाई है। इसके साथ पुलिस ने चार अंतर्राष्ट्रीय मादक पदार्थ तस्करों को भी गिरफ्तार किया है। बरामद चरस की कीमत अंतर्राष्ट्रीय बाजार में 7.62 करोड़ रुपये बतायी गयी है। चरस की यह खेप नेपाल से बिहार के मोतिहारी व वहां से हरियाणा ले जायी जा रही थी। पिकअप पर छह प्लास्टिक बोरियों में माल लदा था। हरियाणा में सेंटिंग कर इसे बेचने की योजना थी। एसपी कुशीनगर विनोद कुमार सिंह ने शनिवार को प्रेसवार्ता में यह जानकारी दी। बताया कि स्वाट व अहिरौली बाजार थाने की पुलिस हाईवे पर संदिग्ध वाहनों की जांच कर रही थी तभी पिकअप गुजरी। उसे रोका गया तो वाहन चालक रुका नहीं और भागने लगा। पुलिस टीम ने पीछा कर उसे सुबुधिया के पास पकड़ लिया। 


पकड़े गए तस्करों में एक नेपाल के तिनडोभिया, पोखरिया जिला परसा का निवासी कमल रावत है। अन्य तीनों की पहचान रामबिलास सिंह निवासी पिपरा कला, थाना नरही जिला बलिया, प्रमोद कुमार उपाध्याय निवासी पिपरा कला, थाना नरही जिला बलिया तथा हरदेव राजभर निवासी खोरी पाकड़, थाना फेफना जिला बलिया के रूप में हुई है। रामबिलास पहले भी झारखंड में मादक पदार्थ की तस्करी में पकड़ा जा चुका है। शेष तीनों का आपराधिक इतिहास खंगाला जा रहा है। तस्करी में शामिल पिकअप वाहन को सीज कर दिया गया है। एसपी ने तस्करों से पूछताछ के आधार पर बताया कि नेपाल से कमल रावत यह चरस मोतीहारी (बिहार) लेकर आया था। सब मिलकर उसे हरियाणा ले जा रहे थे। इस मामले में अहिरौली बाजार थाने में केस दर्ज किया गया है पुलिस उपमहानिरीक्षक एसपी कुशीनगर विनोद कुमार सिंह ने पुलिस टीम को 50 हजार रुपये का पुरस्कार देने की घोषणा की है। पुलिस टीम में अहिरौली बाजार एसओ अनिल कुमार, स्वाट के दरोगा अमित शर्मा व राघवेन्द्र सिंह, दरोगा परमात्मा प्रसाद, हवलदार मुबारक अली व अशोक सिंह, सिपाही चन्द्रशेखर यादव, राघवेन्द्र सिंह, संदीप भास्कर, विनोद कुमार यादव, शशिकेश गोस्वामी, कृष्णमोहन कुशवाहा, सत्यप्रकाश तिवारी, रंजीत कुमार, शंखधर राय तथा रामबचन रामविन्द शामिल रहे।