Ticker

6/recent/ticker-posts

Advertisement

Responsive Advertisement

किसान महापंचायत के सहारे सिख मतदाताओं की सेंधमारी में



 कृषि बिल कानून की वापसी होती है या नहीं या तो अभी भविष्य के गर्भ में है लेकिन जिस तरीके से छोटे चौधरी किसानों की महापंचायत मैं सक्रियता बढ़ी है उससे राजनीतिक नफा नुकसान के आकलन की चर्चा शुरू हो गई है राजनीतिक विशेषज्ञों की मानें तो पश्चिम में जहां जाट समुदाय के मतदाताओं पर आरएलडी का प्रभाव पड़ा है वही तराई में सिख समुदाय के लोगों में भी आरएलडी ने सेंधमारी शुरू कर दी इस बात की चर्चा लखीमपुर खीरी के संपूर्णानगर कस्बे में आयोजित किसान महापंचायत में सिख समुदाय के उमड़े जनसैलाब राजनीतिक गलियारों में जोर शोर से शुरु हो गई

आपको बता दे गुरुवार को जिले के संपूर्णानगर कस्बे में एक किसान महापंचायत का आयोजन किया गया जिसमें आरएलडी उपाध्यक्ष जयंत चौधरी शामिल होने के लिए लखीमपुर खीरी पहुंचे जहां पब्लिक इंटर कॉलेज के मैदान में उमरे सिख समुदाय के जन सैलाब को देखकर छोटे चौधरी क गदगद हो गए उन्होंने किसान महापंचायत को संबोधित करते हुए सरकार पर तीखे हमले किए उन्होंने कहा कृषि कानून के विरोध में आज देश का अन्नदाता 3 महीने सड़कों पर है लेकिन अंधी और बहरी हो चुकी सरकार तानाशाही रवैया अपनाए हुए हैं 200 से अधिक किसान इस आंदोलन में शहीद हो चुके हैं लेकिन मौजूदा सरकार को कोई फर्क नहीं पड़ा है इससे यह साबित होता है कि सरकार किसान विरोधी है उन्होंने गन्ना भुगतान को लेकर 20 सरकार को आड़े हाथों लिया छोटे चौधरी ने कहा कि 14 दिन में गन्ना भुगतान का दावा करने वाली सरकार आज कहां सो रही है किसानों का अरबों रुपए चीनी मिल दबाए बैठी है आखिर चीनी मिल मालिक गन्ना किसानों का भुगतान क्यों नहीं कर रहे हैं महापंचायत को संबोधित करते हुए उन्होंने अपने बाबा चौधरी चरण सिंह की सरकार की याद दिलाते हुए किसानों से कहा कि आज किसानों के पास जो जमीन है वह उनके बाबा की नीतियों की देन है करीब 1 घंटे तक महापंचायत मैं शिरकत करने के बाद छोटे चौधरी दिल्ली रवाना हो गए लेकिन इसके बाद से राजनैतिक गलियारों में चर्चाओं का दौर शुरू हो गया राजनीतिक विशेषज्ञ की माने तो छोटे चौधरी मिनी पंजाब का जाने वाले